जिस हाथी को एक इंसान ने 12 साल तक पाला पोसा और उसकी सेवा की…उस हाथी ने ही उस पालनहार की जान ले ली…किसी पालतू जानवर की अपने मालिक के प्रति ऐसी बेवफाई शायद पहली बार देखने को मिल रही है । इंसानों में तो ये आम है लेकिन जानवर…इस जहर से अब अलग था । ओरमाझी के रविवार को जब ये घटना घटी तो हर कोई ये देखकर और सुनकर हैरान था कि महेन्द्र की मौत का कारण रामू बना..वो रामू जिसे बीते 12 सालों से महेन्द्र अपनी औलाद की तरह पाल रहा था । रामू ने जिस अंदाज में अपने मालिक महेन्द्र को मौत दी..वो बेहद हैरान करने वाली थी..चश्मदीदों का कहना है कि रामू ने महेन्द्र को पटक पटक कर मार डाला ।

घटना ओरमाझी के बिरसा जू में घटी ..साल 2006 में रामू को सरायकेला रेंज से बिरसा जू लाया गया था..तब उसकी उम्र महज 3 साल थी..वो सराय केला के जंगल में अपने झुंड से बिछड़कर गड्डे में गिर गया था..जिसके बाद महेन्द्र ने ही उसे पाला…रामू की उम्र अब 15 साल है ।

दरअसल विशेषज्ञो का कहना है कि सितंबर से नवंबर के बीच हाथी का माइग्रेशन होता है और इस दौरान उनमें हार्मोनल चेंज होते है.इसी वजह से वो उग्र हो जाते है । और जब हाथी उग्र होते है तो फिर बडा मुश्किल होता है कि वो किसी के वश में आ जाए ।

रामू के साथ भी यही हुआ…जिसमें बगैर ये सोचे महेन्द्र पर हमला कर दिया कि उसको जीवन भर पालने वाला महेन्द्र ही था ।

VIANK ,Team HePro
SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here