कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को पुष्कर के सरोवर घाट पर पूजा अर्चना की. इसके अलावा उन्होंने वहां स्थित ब्रह्मा मंदिर में दर्शन भी किए. सरोवर घाट पर पूजा करवाने वाले एक पुजारी ने दावा किया कि राहुल का गोत्र दत्तात्रेय है और वह कश्मीरी ब्राह्मण हैं.

पुजारी के मुताबिक उनके पूर्वजों ने ही मोती लाल नेहरू, जवाहर लाल नेहरू व इस परिवार के अन्य सदस्यों को यहां पूजा करवाई थी. पुजारी का कहना है, ‘इनकी गोत्र दत्तात्रेय हैं और वह कश्मीरी ब्राह्मण हैं. मोती लाल नेहरू, जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, संजय गांधी, मेनका गांधी व सोनिया गांधी ने घाट पर आकर पूजा की इसका रिकार्ड (पोथी) हमारे पास है.’
पुजारी के मुताबिक उन्होंने पूजा करने आए राहुल गांधी से उनका नाम व गोत्र पूछा तो ‘उन्होंने दत्तात्रेय गोत्र’ बताया. दत्तात्रेय कौल होते हैं जो कश्मीरी ब्राह्मण होते हैं.’ पुजारी ने दस्तावेज भी दिखाए, जिनमें पुष्कर सरोवर में पूजा करने वाले राहुल के पूर्वजों के नाम दर्ज थे. चुनावी यात्रा पर राजस्थान आए राहुल इससे पहले अजमेर दरगाह भी गए. राहुल गांधी ने अजमेर की ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर अकीकत के फूल और चादर पेश कर जियारत की. इस अवसर पर गांधी के साथ राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मौजूद रहे. दरगाह शरीफ में गांधी परिवार के खादिमों ने राहुल गांधी को परंपरागत तरीके से जियारत करवाई
पुष्कर के बाद राहुल गांधी जैसलमेर के पोकरण चले गए. जहां पर उन्होंने जनसभा को संबोधित किया. इसके साथ ही राहुल ने जालोर और जोधपुर में भी चुनावी रैलियां कीं. रैलियों को संबोधित करते हुए राहुल कहा कि राज्य में पार्टी की सरकार बनते ही दस दिन में किसानों का कर्ज माफ कर दिया जाएगा. उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री सहित विपक्षी नेताओं के मामले में वाणी का संयम बरतने की नसीहत भी दी.
उन्होंने कहा कि जितनी भाजपा की केंद्र सरकार बड़े उद्योगपतियों की मदद करेंगी हम उतनी ही मदद किसान, युवाओं, महिलाओं तथा छोटे दुकानदारों की करेंगे. उन्होंने कहा कि ‘अच्छे दिन आएंगे’ का नारा साढ़े चार साल में ही ‘चौकीदार चोर है’ में बदल गया है. पोकरण में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए गांधी ने कहा, राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद दस दिन में ही पार्टी, किसानों का कर्जा माफ कर देगी और दुनिया की कोई भी ताकत इस बात को नहीं बदल सकती कि राजस्थान के किसानों का कर्जा दस दिन में माफ होगा.’
राजस्थान की राजनीति में ब्राह्मण नेताओं का एक लंबे समय तक दबदबा रहा है. प्रदेश में कभी कांग्रेस की राजनीतिक धुरी ब्राह्मणों के इर्द-गिर्द घूमती थी, लेकिन वक्त के साथ कमजोर हुई. ऐसे में कांग्रेस ने एक बार फिर अपने परंपरागत मतदाताओं को साधने की रणनीति बनाई है. यही वजह है कि सीपी जोशी जहां खुले तौर पर ब्राह्मणों को राजनीति का सिरमौर मानते हैं. वहीं, राहुल ने भी अपनी जाति के बहाने ब्राह्मण कार्ड का दांव चला है.
सीपी जोशी ने कहा था, ‘उमा भारती जी की जाति मालूम है किसी को? ऋतंभरा की जाति मालूम है? इस देश में धर्म के बारे में कोई जानता है तो पंडित जानते हैं.’ ऐसे में सवाल उठता है कि कांग्रेस का ब्राह्मण कार्ड क्या राज्य की सत्ता में वापसी की राह आसान करेगा?
राजस्थान में कांग्रेस के पास ब्राह्मण चेहरे के तौर पर सीपी जोशी, गिरिजा व्यास और रघु शर्मा जैसे बड़े चेहरे हैं. प्रदेश में 8 पर्सेंट वोट ब्राह्मण समाज का है. प्रदेश की करीब 30 विधानसभा सीटों पर ब्राह्मण वोटर निर्णायक भूमिका में है. कांग्रेस ने राजस्थान में पार्टी प्रभारी की कमान अविनाश पांडेय के हाथों में है. इसके अलावा प्रदेश में कांग्रेस के चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष भी ब्राह्मण समाज से ताल्लुक रखने वाले रघु शर्मा हैं.
आजादी के बाद से लेकर 90 के दशक तक राजस्थान कांग्रेस में ब्राह्मण नेताओं का सुनहरा दौर रहा था. आजादी के बाद से लेकर 1990 तक पांच ब्राह्मण मुख्यमंत्री बने थे. 1949 से लेकर 1990 तक राजस्थान की राजनीति में ब्राह्मण नेताओं का दबदबा रहा. 1990 में हरिदेव जोशी आखिरी सीएम थे और उसके बाद से लगातार राजस्थान की राजनीति में ब्राह्मणों का दबदबा कम हुआ है.
हालांकि, राज्य में कांग्रेस के सबसे प्रमुख चेहरे के तौर पर पार्टी महासचिव अशोक गहलोत और सचिन पायलट की होती है. ये दोनों चेहरे ब्राह्मण समुदाय से नहीं आते हैं. यही वजह रही गहलोत को एक कार्यक्रम में कहना पड़ा कि राजस्थान में सीएम के लिए कांग्रेस के दो ही नहीं बल्कि पांच चेहरे और भी हैं. इनमें उन्होंने तीन ब्राह्मण चेहरों के नाम गिनाए.
राजस्थान की 200 विधानसभा सीटों में टिकट की अगर बात की जाए तो कांग्रेस ने ब्राह्मण समाज से 20 लोगों को इस बार उम्मीदवार बनाया है. जबकि पिछले चुनाव में ब्राह्मण समुदाय को 17 टिकट दिए गए थे और लोकसभा में एक भी नहीं था. हालांकि, उपचुनाव में कांग्रेस ने अजमेर लोकसभा सीट पर रघु शर्मा को उम्मीदवार बनाया था और उन्होंने जीत हासिल कर पार्टी का खाता खोला है. कांग्रेस ने इस बार फिर ब्राह्मण दांव चला है.

बता दें कि 1990 के बाद से लगातार राजस्थान की राजनीति में ब्राह्मण जाति का दबदबा कम होता आया है. हालांकि समय-समय पर राजस्थान में अलग-अलग ब्राह्मण नेता अहम पदों पर रहे हैं. लेकिन फिर भी 1990 के बाद से कोई भी मुख्यमंत्री के पद पर नहीं पहुंच पाया है.
राजस्थान के प्रमुख ब्राह्मण नेताओं की बात करें तो हरिदेव जोशी के बाद नवल किशोर शर्मा एक महत्वपूर्ण नाम रहे. हालांकि नवल किशोर शर्मा ने केंद्र की राजनीति में अपनी भूमिका अदा की ।
इसके बाद वर्तमान राजनीति में सीपी जोशी, गिरिजा व्यास, रघु शर्मा, महेश जोशी, भंवरलाल शर्मा जैसे ब्राह्मण नेता अपना असर छोड़ते रहे हैं. अजमेर लोकसभा के उपचुनाव में रघु शर्मा को मिली जीत बताती है की राजस्थान में अब भी ब्राह्मण राजनीति के लिए पर्याप्त स्पेस बाकी है. जातिगत समीकरणों को आधार बनाकर टिकट दिए जाते हैं तो लंबे समय तक ब्राह्मण समाज को नजरअंदाज करना संभव नहीं है
बता दें कि 1949 से लेकर 1951 तक राजस्थान के पहले मुख्यमंत्री हीरालाल शास्त्री रहे. उसके बाद 1951 से 1952 तक जयनारायण व्यास मुख्यमंत्री बने. मार्च 1952 से अक्टूबर 1952 तक टीकाराम पालीवाल मुख्यमंत्री रहे. नवंबर 1952 से नवंबर 1954 तक जयनारायण व्यास मुख्यमंत्री पद पर रहे. इसके बाद अगस्त 1973 से अप्रैल 1977 तक हरिदेव जोशी ने मुख्यमंत्री पद की कमान संभाली.
मार्च 1985 से जनवरी 1988 तक हरिदेव जोशी एक बार फिर से मुख्यमंत्री बने. इसके बाद राजस्थान में ब्राह्मण मुख्यमंत्री के तौर पर दिसंबर 1989 से मार्च 1990 तक हरिदेव जोशी का आखिरी कार्यकाल रहा. इसके बाद राजस्थान की राजनीति एक अलग दिशा में मुड़ गई. कांग्रेस की कमान अशोक गहलोत के हाथों में आ गई और वहीं बीजेपी की ओर से राजपूत नेता के तौर पर पहले भैरोंसिंह शेखावत और फिर वसुंधरा राजे ने मुख्यमंत्री पद संभाला.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here